Friday, March 25, 2011

ख़ूनी खेल


वो  अँधेरी  काली  रात, ना जाने  कितनो  को  अपने  अन्दर  समाने  आई  थी,
उस  काली  रात  का  तांडव , ना  जाने  कितनो  की  आँखों  में  आंसू  लाई  थी |
ना  जाने  क्यों  ना  हुआ  उस  दिन  कोई  चमत्कार ,
समझ  न  आया  होने  वाला  है  इतना  बड़ा  नरसंघार|.
उन  दस  आतंकवादियों  ने  बनाया  था  मुंबई  को  निशाना ,
बर्बाद  कर  दिया  ताज , ओबेरॉय  जो था  जाना  पहचाना |
जल  मार्ग  से  आये  थे  ये  आतंकवादी  और  समझा  दिया   हमे ,
बेकार  हैं  ये  नेता  और  इनकी  नेतागरी |
बहुत  आगे  हैं  ये  आतंकवादी  हमसे ,
मुंबई  को  बर्बाद  करने  का  इरादा  ना  जाने  लिए  बैठे  थे  कबसे ?
कुल  दस  आतंकवादियों  से  बना  था  इनका  गुट ,
अलग थे  रास्ते , मकसद  था  एक , और  थे  वे  एक  जुट |
उनकी  एकजुटता  ने  सारा  आलम  हिला  डाला ,
उनकी  बरसती  गोलियों  ने , ना  जाने  कितनो  को  मौत  के   घाट  उतर  डाला |
नौसेना  से  बचते -बचाते  पहुचे  थे  वो  मुंबई  में ,
फिर  पहुचे  ताज , ओबेरॉय  और  कई  Hospitals  में |
बड़े -बड़े  ऑफिसर  भी  जब  बने  उनकी  गोली  का  शिकार ,
तो  कैसे  ना  मचता  इतना  हाहाकार |
उनकी  गोली  ने  कहाँ  देखा  हिन्दू  या  मुस्लमान ,
मुंबई  को  नषट  करने  में , समझते  थे  खुद  की  शान |
पर हमारे  बहादुर  NSG  कमांडरो ने , दिखाई  ऐसी  बहादुरी , 
दोस्त  या  दुश्मन  हर  कोई  करे , उनकी  प्रशंसा  भूरी  भूरी |
लगभग  साठ  घंटे  चलने  वाली  लड़ाई  हुई  थी  खत्म ,
दस  में  से  नौ  आतंकवादियों  का  हुआ  था  अंत |
एक  कसाब  ही  था  जो  अंत  में  पकड़ा  गया ,
उसने  भी  सच  उगलने  में , सबकी  नाक  में  दम  किया
अभी  तक  नहीं  हुआ  है  फैसला  कसाब  के  केस  का ,
लगता  है  इंतज़ार  है  सरकार  को  ऐसे  एक  और  ख़ूनी  खेल  का |

3 comments:

  1. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा , आप हमारे ब्लॉग पर भी आयें. यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . हम आपकी प्रतीक्षा करेंगे ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    डंके की चोट पर

    ReplyDelete
  2. शुभागमन...!
    कामना है कि आप ब्लागलेखन के इस क्षेत्र में अधिकतम उंचाईयां हासिल कर सकें । अपने इस प्रयास में सफलता के लिये आप हिन्दी के दूसरे ब्लाग्स भी देखें और अच्छा लगने पर उन्हें फालो भी करें । आप जितने अधिक ब्लाग्स को फालो करेंगे आपके ब्लाग्स पर भी फालोअर्स की संख्या उसी अनुपात में बढ सकेगी । प्राथमिक तौर पर मैं आपको 'नजरिया' ब्लाग की लिंक नीचे दे रहा हूँ, किसी भी नये हिन्दीभाषी ब्लागर्स के लिये इस ब्लाग पर आपको जितनी अधिक व प्रमाणिक जानकारी इसके अब तक के लेखों में एक ही स्थान पर मिल सकती है उतनी अन्यत्र शायद कहीं नहीं । प्रमाण के लिये आप नीचे की लिंक पर मौजूद इस ब्लाग के दि. 18-2-2011 को प्रकाशित आलेख "नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव" का माउस क्लिक द्वारा चटका लगाकर अवलोकन अवश्य करें, इसपर अपनी टिप्पणीरुपी राय भी दें और आगे भी स्वयं के ब्लाग के लिये उपयोगी अन्य जानकारियों के लिये इसे फालो भी करें । आपको निश्चय ही अच्छे परिणाम मिलेंगे । पुनः शुभकामनाओं सहित...


    नये ब्लाग लेखकों के लिये उपयोगी सुझाव.

    उन्नति के मार्ग में बाधक महारोग -
    क्या कहेंगे लोग ?

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी पोस्ट, शुभकामना, मैं सभी धर्मो को सम्मान देता हूँ, जिस तरह मुसलमान अपने धर्म के प्रति समर्पित है, उसी तरह हिन्दू भी समर्पित है. यदि समाज में प्रेम,आपसी सौहार्द और समरसता लानी है तो सभी के भावनाओ का सम्मान करना होगा.
    यहाँ भी आये. और अपने विचार अवश्य व्यक्त करें ताकि धार्मिक विवादों पर अंकुश लगाया जा सके., हो सके तो फालोवर बनकर हमारा हौसला भी बढ़ाएं.
    मुस्लिम ब्लोगर यह बताएं क्या यह पोस्ट हिन्दुओ के भावनाओ पर कुठाराघात नहीं करती.

    ReplyDelete